उत्तराखण्ड -आंग्ल गोरखा युद्ध तथा सिंगोली की संधि

  • by

उत्तराखण्ड -आंग्ल गोरखा युद्ध तथा सिंगोली की संधि


Uttarakhand – Anglo Gorkha War and the Treaty of Singoli


आंग्ल गोरखा युद्ध –

  • सुर्दशन शाह द्वारा गोरखा राज्य पर आक्रमण करने हेतु अंग्रेजों को आमंत्रित किया तथा अंग्रेजों ने उसके इस आमंत्रण को स्वीकार किया था।
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की बुटवल तहसील पर गोरखाओं ने आक्रमण कर दिया और बुटवल पर अपना कब्जा कर लिया था।
  • बुटवल तहसील के लोग अंग्रेजों को कर दिया करते थे। जिससे अंग्रेज नाराज हो गए तथा अंग्रेजों ने गोरखाओं पर आक्रमण कर दिया था।
  • वायसराय लॉर्ड होस्टिंग ने अप्रैल 1814 में आक्रमण कर दिया और गोरखाओं को पराजित कर दिया था।
  • यही से आंग्ल- गोरखा युद्ध प्रारम्भ हुआ था।
  • हर्षदेव जोशी के द्वारा गोरखाओं का शासन समाप्त करने के लिए अंग्रेजों को आमंत्रित किया था।
  • कैप्टन हियरसी ने हर्ष देव जोशी को उत्तराखंड का अलवार्विक कहा है।
  • कैप्टन हियरसी ने गोरखाओं को रक्त पिवाषु भी कहा है।
  • अल्मोड़ा का लाल मण्डी किला गोरखाओं का मुख्यालय था।

नाला पानी युद्ध (अक्टूबर – नवंबर 1814) –

  • इस युद्ध में बलभद्र थापा के द्वारा खलंगा (कालुंगा) सैन्य शिविर का निर्माण किया था।
  • इस युद्ध के दौरान अंग्रेज अधिकारी ग्लेस्पी था।
  • इस युद्ध में अंग्रेज अधिकारी ग्लेस्पी की हत्या हो गयी थी।
  • 30 नवंबर 1814 को अंग्रेजों ने खलंगा सैन्य शिविर को तबाह कर दिया था।

कुसुम घाट युद्ध –

  • यह युद्ध हस्ती दल चौतरिया तथा हियर सी के मध्य हुआ था।

गढनाथ दण्डा यद्ध –

  • 23 अप्रैल 1814 को यह युद्ध हस्ती दल चौतरिया तथा कर्नल निकोसन के मध्य हुआ था।
  • इस युद्ध में अंग्रजों की विजय हुई थी।
  • इसी युद्ध में गोरखा सेनापति हस्तीदल चौतरिया मारा गया था।

लालमंडी युद्ध –

  • 25 अप्रैल 1815 चामू भंडारी तथा निकोसन के मध्य यह युद्ध हुआ था।
  • इस युद्ध में गोरखा पराजित हुए थे।
  • इसके बाद गोरखाओं ने अंग्रजों के साथ अल्मोड़ा की संधि की थी।
  • बमशाह ने 27 अप्रैल 1815 में आत्मसमर्पण कर दिया था।
  • जिसके परिणाम स्वरूप गार्डनर व बमशाह के मध्य संधि हुई थी।
  • इस संधि के तहत गोरखाओं ने कुमाऊँ की सत्ता अंग्रेजों को सौंप दी थी।

मलाबगढ़ की संधि / नहान की संधि –

  • अंग्रेज मेजर जनरल ओक्टर लोनी और अमर सिंह थापा के मध्य यह संधि हुई थी।
  • गोरखा अपनी सत्त्ता अंग्रेजों को सौंपने के लिए स्वीकार हो गए थे।
  • इस संधि के बाद गोरखाओं ने इस संधि का उल्लंघन किया था, जिसके बाद अंग्रेजों ने गोरखाओं पर पुनः आक्रमण करने का निर्णय लिया था।
  • जिसके परिणाम स्वरूप गोरखाओं व अंगेजों के मध्य संधि हुई जिसे सिंगोली की संधि कहा जाता है।

सिंगोली की संधि (Treaty of Singoli) –

  • संगोली (Singoli) बिहार में स्थित एक स्थान है।
  • यह संधि 2 दिसंबर 1815 को लै0 कर्नल पेरिस ब्रेडसॉ और  नेपाल नरेश शाह बहादूर शमशेरजंग के प्रतिनिधि गजराज मिश्र एवं चन्द्रशेखर उपाध्याय के मध्य का मसौदा हस्ताक्षरित हुआ।
  • 4 मार्च 1816 को संगोली संधि की पुष्टि कर दी गयी थी।
  • 1823 में संगोली की संधि को सतत् शांति और मैत्रीपूर्ण संधि कर दिया गया।
  • नेपाल के दक्षिणी तराई क्षेत्र से गोरखाओं को हटाना।
  • काठमांडू में नेपाल सरकार के ख़र्चपर ब्रिटिश रेजिमेंट रखना।
  • गोरखाओं को ब्रिटिश सेना में भर्ती कराना।
  • कुमाऊँ व गढ़वाल से गोरखाओं को समाप्ति।
  • काली नदी को विभाजन रेखा माना गया था।

NOTE -
  1. नेपाल का साहित्य नेवारी भाषा में था।
  2. मोलाराम ने रणबहादुर चंद्रिका लिखी।
  3. रणजोर सिंह थापा को गोरखाओं का दानवीर कर्ण मोलाराम के द्वारा कहा गया था।
  4. 1791 में पहला सुब्बा जोगामल शाह ने पहला भूमि बंदोबस्त कराया।