उत्तराखंड का रुद्रप्रयाग जनपद (Rudraprayag district of Uttarakhand)

  • by

उत्तराखंड का रुद्रप्रयाग जनपद


Rudraprayag district of Uttarakhand


रुद्रप्रयाग जनपद की स्थापना सितम्बर 1997 को हुई थी। रुद्रप्रयाग का पुराना नाम पुनाड़ था।

रुद्रप्रयाग जनपद के पड़ोसी जिले- 

  • पूर्व में – चमोली
  • पश्चिम- टिहरी
  • उत्तर- उत्तरकाशी
  • दक्षिण- पोड़ी
  • रुद्रप्रयाग जनपद उत्तराखंड का आंतरिक जिला है जो किसी अन्य राज्य व देश से सीमा नहीं बनाता।
  • रुद्रप्रयाग चार जनपदों से सीमा बनाता है- टिहरी, पोड़ी, चमोली, उत्तरकाशी
रुद्रप्रयाग जनपद क्षेत्रफल 1984 वर्ग km

रुद्रप्रयाग जनपद में राष्ट्रीय राजमार्ग- 

  • NH 107- रुद्रप्रयाग – गौरीकुण्ड
  • NH 7 –  दिल्ली  – रुद्रप्रयाग  – बद्रीनाथ – माणा

रुद्रप्रयाग जनपद का प्रशासनिक ढांचा –

रुद्रप्रयाग जनपद के विधानसभा क्षेत्र- 
1.केदारनाथ
2.रुद्रप्रयाग
रुद्रप्रयाग जनपद की तहसील
रुद्रप्रयाग जनपद में 4 तहसील हैं –
1.रुद्रप्रयाग
2.उखीमठ
3.बसुकेदार
4.जखोली
विकासखंड-
रुद्रप्रयाग में 3 विकासखंड या ब्लॉक हैं-
1.उखीमठ
2.जखोली
3.अगस्तमुनि
रुद्रप्रयाग जनपद की जनंसख्या– 2,42,285
रुद्रप्रयाग जनपद का जनघनत्व– 122
रुद्रप्रयाग जनपद का लिंगानुपात– 1114
रुद्रप्रयाग जनपद की साक्षरता– 81.3%
रुद्रप्रयाग जनपद की पुरूष जनंसख्या- 93.90%
रुद्रप्रयाग जनपद की महिला जनंसख्या-70.35%

रुद्रप्रयाग जनपद के प्रमुख पर्यटक् स्थल – 

1.गुप्तकाशी- 
  • मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित गुप्तकाशी एक सुंदर स्थल हैं।
  • गुप्तकाशी में भगवान शिव को समर्पित विश्वनाथ मंदिर है।
  • विश्वनाथ मंदिर के समीप ही अर्धनारीश्वर मंदिर भी है।
  • विश्वनाथ मंदिर के सामने ही मणिकर्णिका कुंड भी हैं यह एक ठंडा कुंड है।
2.अगस्तमुनि- 
  • यह स्थान मुनि अगस्त्य की तपोभूमि है।
  • यहाँ पर मुनि अगस्त्य के ईष्ट देव अगस्तेश्वर महादेव मंदिर भी हैं।
3.उखीमठ- 
  • इस स्थान को बाणासुर की पुत्री ऊषा व अनिरुद्ध  का विवाह स्थल माना जाता है।
  • उखीमठ में ओंकारेश्वर शिव मंदिर है जिसका निर्माण गुरु शंकराचार्य ने किया।
  • शीतकालीन में केदारनाथ व मदमहेश्वर की डोलियां यहीं पर लायी जाती है।
4.चोपता- 
  • उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में स्थित चोपता एक छोटा सा हिल स्टेशन है।
  • चोपता के निकट बनिया कुंड स्थित है।
  • बनिया कुंड जंगल में उत्तराखंड का पहला नेचर कैनेपी वॉक बनाया जाएगा जिसकी ऊंचाई 20 फ़ीट होगी।

रुद्रप्रयाग जनपद के प्रमुख मंदिर – 

1.केदारनाथ- 
  • केदारनाथ उत्तराखंड में स्थित चार धामों में से एक धाम व पांच केदार में से एक केदार है।
  • केदारनाथ मंदिर मंदाकिनी नदी तट पर स्थित है।
  • केदारनाथ मंदिर में शिव रूपी बैल की पीठ आकृति पिंड की पूजा होती है।
  • शीतकाल के दौरान केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद होने बाद केदारनाथ का शीतकालीन पूजा स्थल ऊखीमठ का ओंकारेश्वर मंदिर है।
  • यह मंदिर कत्यूरी शैली से निर्मित है।
2.मदमहेश्वर-
  • उत्तराखंड के पंचकेदारों में से यह दूसरा केदार है।
  • यहाँ पर भगवान शिव की नाभि की पूजा होती है।
  • मदमहेश्वर के ऊपर कुछ दूरी 3-4Km पर बूढ़ा मदमहेश्वर मंदिर भी है।
  • मदमहेश्वर मंदिर का शीतकालीन पूजा स्थल उखीमठ है।
3.तुंगनाथ –
  • तुंगनाथ मंदिर उत्तराखंड के पंच केदारों में से तीसरा केदार है।
  • इस मंदिर में शिव  की भुजाओं की पूजा होती है।
  • तुंगनाथ मंदिर के नजदीक रावण शिला और चंद्र शिला पर्वत भी है।
  • तुंगनाथ का शीतकालीन पूजा स्थल मक्कूमठ है।
  • तुंगनाथ मन्दिर उत्तराखंड का सबसे ऊंचाई पर स्थित मंदिर है।
  • यह मंदिर कत्यूरी शैली में बना हुआ है।
4.कोटेश्वर महादेव मंदिर-
  • रुद्रप्रयाग से 3Km दूर अलकनंदा नदी के तट पर कोटेश्वर महादेव मंदिर स्थित है।
5.त्रियुगी नारायण मंदिर-
  • यह मंदिर रुद्रप्रयाग के त्रियुगी गॉव में स्थित है।
  • यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है यहाँ पर भगवान शिव व पार्वती का विवाह हुआ था।
  • यहाँ पर एक अग्नि ज्योति प्रज्वलित होती है।
  • यहाँ पर तीन कुंड हैं- ब्रह्म कुंड, विष्णु कुंड, व रुद्र कुंड।
6.कार्तिक स्वामी मंदिर-
  • रुद्रप्रयाग के कनक्चोंरी गांव में स्थित भगवान शिव के पुत्र कार्तिक स्वामी का मंदिर है।
7.बसुकेदार मंदिर- 
  • इस मंदिर में भूमिगत शिवलिंग है।
  • इस मंदिर का निर्माण गुरु शंकराचार्य जी ने कराया था।
  • यहां पर कत्यूरी शैली से निर्मित कई अनेक छोटे छोटे मंदिर भी हैं।
8.कालीमठ मंदिर
9.सिर कटा गणेश मंदिर
10.बाणासुर मंदिर
11.हरियाली देवी मंदिर

रुद्रप्रयाग जनपद के प्रमुख मेले –

1.जाख मेला
  • यह मेला गुप्तकाशी में जाख देवता के मन्दिर में लगता है।
  • इस मेले का आयोजन बैशाख माह में होता है।
  • जाख देवता का पश्वा जलते अंगारो पर नृत्य करता है।
2.भतूज मेला या अन्नकूट मेला- 
  • यह मेला केदारनाथ में रक्षाबंधन से एक दिन पूर्व लगता है।
  • इस दिन भगवान शिव के स्वयंभू लिंग की पूजा होती है।
 
3.मठियाणा मेला- 
  • यह मेला रुद्रप्रयाग के जखोली विकासखंड के भरदार में मठियाणा मां के मंदिर में लगता है।
 
4.हरियाली देवी मेला
5.वासुदेव मेला

रुद्रप्रयाग जनपद की प्रमुख यात्रा- 

मनणा माई की जात- 
  • यह यात्रा उखीमठ विकासखंड के मदमहेश्वर घाटी में आयोजित होती है।
  • मनणा माई की डोली रांसी गांव से मनणी बुग्याल तक जाती है व फिर वापस रांसी गांव में रकेश्वरी मन्दिर में लायी जाती है। 
रुद्रप्रयाग जनपद के नदी तंत्र – 
1.मंदाकिनी नदी- 
उद्गम- मंदराचल श्रेणी(केदारनाथ) या चोराबाड़ी ताल(चोराबाड़ी ग्लेशियर) से
संगम– रुद्रप्रयाग में अलकनंदा से संगम करती है
मंदाकिनी की प्रमुख सहायक नदी
1.सोनगंगा(वाशुकी नदी)- 
उद्गम– वाशुकी ताल
संगम- सोनप्रयाग में रुद्रप्रयाग से संगम
2.मधुगंगा- 
उद्गम- मदमहेश्वर के निकट से
संगम- कालीमठ के निकट मंदाकिनी से मिलती है। 
3.क्यूंजागाड़- 
चंद्रपुरी में मंदाकिनी से संगम
4.लस्तर नदी-
उद्गम- पंवाली काँठा
संगम– सूर्यप्रयाग में मंदाकिनी नदी से

रुद्रप्रयाग जनपद की प्रमुख ताल/झील –

1.चोराबाड़ी ताल(गांधी सरोवर)
  • इसे शरवदी ताल भी कहा जाता है।
  • यह केदारनाथ मंदिर के ऊपर कुछ दूरी पर स्थित है। 
  • इस ताल से मंदाकिनी नदी का उद्गम होता है। 
2.देवरिया ताल
3.भेंकताल– रुद्रप्रयाग में स्थित यह ताल अंडाकार ताल है। 
4.वासुकी ताल– यह ताल सयुंक्त रूप से टिहरी रुद्रप्रयाग में स्थित है इस ताल से सोनगंगा का उद्गम होता है। 
5.बधाणी ताल
रुद्रप्रयाग जनपद में स्थित प्रमुख कुंड –
ठंडे कुंड- 
1.अमृत कुंड
2.हंस कुंड
3.उदक कुंड
4.रेतस कुंड
5.नंदी कुंड
6.ब्रह्म कुंड
7.विष्णु कुंड
8.रुद्र कुंड
9.शिव कुंड
10.रुधिर कुंड
11.मणिकर्णिका कुंड
12.सरस्वती कुंड
गर्म कुंड-
1.गौरीकुण्ड
2.भौरी अमोला कुंड